ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
संपादकीय
January 28, 2019 • Devender Kumar Bahl

 

अपने लेखकों एंव पाठकों को हाजिर-नाजिर मससूसते हुए नव वर्ष की शुभ बेला में साकारात्मक संभावनाओं, नेक ख्वाहिशयात, और उच्च स्तरीय सौमन्यस्य की आकांक्षाओं को संजोए हुए अभिनव इमरोज़ का आठवें साल का प्रवेशांक पेश कर रहा हूँ। हम सब के लिए ये साल खुशनसिबियों से भरा हो और हमारा पल-पल पल्लवित, पुलकित, पुष्पित एवं प्रफुल्लित होता रहे-

सर्वा आशा मम मित्रां भवन्तु

सभी दिशायें हमारी मित्र बनें और सब ओर से हमारा कल्याण हो

सर्वेभवन्तु सुखिना I