ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
अभिनव इमरोज आवरण पृष्ठ 4
June 24, 2020 • देवेंद्र कुमार बहल • संपादकीय

उदित हो रहा चन्द्र गगन में

और क्षितिज पर सूर्य विलीन

लहरों पर आलिंगन करते

सूरज संग चंदा के रंग

रंगों संग करता किलोल

फेनिल, शुभ्र गंगा का जल।

कैसी नैसर्गिक सुंदरता

हो रहा सलिल में

मिलन मधुर यू....

सूर्य और चन्द्र-किरण।।