ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
बच्चे
November 13, 2019 • डा. करुणा पाण्डेय

बच्चे करते बड़ी शरारत

होती ख़ूब लड़ाई,

उनकी प्यारी हरकत देख

माँ मन में मुस्काई।।

 

होगी अगर शरारत कोई

डाँट लगेगी तुमको

चुन्नी मुन्नी टिन्नी झुमकी

रिंकू पिंकी अब मत रो।।

 

चलो उठो अब करो पढ़ाई

देखो टीचर आई।

पुस्तक हाथ में आते ही

नींद बच्चों को आई।।

 

मेहनत करो खूब तुम अब

जग में नाम कमाओ।

हम सबका आशीष बच्चो

काम देश के आओ।

 

साभार: चुलबुला बचपन,