ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
कविता
April 5, 2020 • शिव डोयले • कविताएँ

शिव डोयले
विदिशा (म.प्र.), मो. 9685444352


तुम क्या करोगी


बीते दिनों की यादें
आ जाएँगी जब गाँव में
बोलो! तब तुम क्या करोगी ?
               अनबोली खड़ी ठगी-ठगी सी
               आँखें देख रहीं जगी-जगी सी
               छोड़ अनुपम छवि जाते-जाते
               सूरज की लालीउतर पड़ेगी
               हाथ हिलाती नाव में
बोलो! तब तुम क्या करोगी ?
               विंध्याचली-प्रश्न कँपकँपाता
               दीप की लौ बन द्वारे तक उगता
               भावों की चौखट से टकराकर
               उत्तर अंधियारे में खो जाता
               गहन पसरी छाँव में
बोलो! तब तुम क्या करोगी ?
               गली-गली, चौराहे-चौराहे
               घूम रहे वायदे अनब्याहे
               अनुरागी पथ पर जाते-जाते
               सहसा जब भटक जाएँ राहें
               महावर रची हो पाँव में
बोलो! तब तुम क्या करोगी ?