ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
मनीप्लांट
November 13, 2019 • करुणा पाण्डेय

मम्मी मनी प्लांट उगवा दो

एक छोटा-सा पेड़ सज़ा दो।

नरम-नरम मिट्टी को कर लो-

फिर पैसों का पेड़ ला दो।।

उसमें पैसे रोज़ लगेंगे

सबकी इच्छा पूर्ण करेंगे।

टाॅफी चाॅकलेट सब मिलंेगे

मैं और पिंकी नहीं लड़ेंगे।

गमला एक छोटा मँगवा दो।

मम्मी मनी प्लांट लगवा दो।

पापा आॅफिस से आयेंगे,

हमको बाज़ार ले जायेंगे।

चाट-पकौड़ी-आइसक्रीम हम

भर कर पेट, खूब खायेंगे।

माली अंकल को बुलवा दो,

मम्मी मनी प्लांट लगवा दो।।