ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
मेरा कहा
March 1, 2020 • उमा त्रिलोक • कविताएँ

 

रात से पूछना
न बोले वह
तो 
लैम्प से माँग लेना गवाही
लिखा है बहुत कुछ
लेकिन 
लिखा नहीं है अब तक जो
वह सब तेरे लिए है

हो सके तो पढ़ लेना
मेरा कहा
अनकहा।

उमा त्रिलोक

मो. 9811156310