ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
निःशब्द
November 15, 2020 • रमेश दवे • बिरासत

रमेश दवे, भोपाल, मो. 9406523071

 

मृत्यु

मात्र शब्द एक

उच्चारण से;

इच्छा से

सार्थक होता यदि

शब्द ‘मृत्यु’

ऊबे हुए सब लोग

जब इच्छा करते

मर जाते;

शब्द में जीना

शब्द में मरना

शब्द में रहना

शब्द का होना साथ

असत्य है,

सत्य है यदि

मृत्यु, तो

शब्द से नहीं

इच्छा से नहीं

आने दो उसे

निःशब्द