ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
प्रार्थना 
April 6, 2020 • निशा नंदिनी भारतीय
 
निशा नंदिनी भारतीय, तिनसुकिया, असम 
 
                                                         
 हे ईश्वर ! हे दाता 
 
सुन लो विनती हमारी। 
इतनी हिम्मत, ताकत से हमको भर दो, 
बाल बांका न कर सके यह बीमारी।
 
है विश्वास हमें तेरी शक्ति पर
हमें विश्वास तेरी भक्ति पर, 
घर-घर में आनंद मंगल होगा
महिमा तेरी सारे जग से निराली।
हे ईश्वर ! हे दाता 
सुन लो विनती हमारी।
 
जीवन हमारा घिरा हर तरफ से
श्वासें हमारी बंधी तेरे दर से, 
झोली सबकी तू तो भरता सदा
तेरे दर से न जाता कोई खाली।
 
हे ईश्वर ! हे दाता 
सुन लो विनती हमारी।
इतनी हिम्मत, ताकत से हमको भर दो, 
बाल बांका कर न सके यह बीमारी।