ALL संपादकीय पुस्तक कहानी कविताएँ ग़ज़लें लघुकथा लेख पत्रांश साहित्य नंदनी बिरासत
यह पत्र उस तक पहुँचा देना....
March 1, 2020 • सुधा ओम ढींगरा • कहानी

कार कछुआ चाल से सड़क पर चल रही है। जहाँ तक नजर पहुँच रही है, कारें ही कारें दिखाई दे रही हैं। ट्रैफिक रुका हुआ है, आगे कोई दुर्घटना हुई है। सड़कें भी क्या करें कई दिनों से लगातार रूई के फाहों जैसी बर्फ गिर रही है। आज ही बर्फ गिरनी बंद हुई तो लोग घरों से निकले हैं। नव वर्ष का आरम्भ हुआ है। हर वर्ष के शुरू का महीना इस देश के बहुत से हिस्सों में बर्फीला महीना होता है। हाईवे 270 सेंट लुईस शहर का हाईवे है, जिस पर यह दृश्य दिखाई दे रहा है। सेंट लुईस, अमेरिका के मिड वेस्ट में आता है, जहाँ इस मौसम में अक्सर बर्फीले तूफान आते हैं। मिड वेस्ट वासी तो ऐसे तूफानों को झेलने के आदी हो चुके हैं। प्रदेश की सरकार भी ऐसे तूफानों के लिए तैयार रहती है और तूफान आने से पहले सड़कों पर नमक छिड़क देती है और तूफान आने के बाद सड़कें एकदम साफ कर देती है। बावजूद सावधानी के कुछ बर्फ कहीं न कहीं सड़क के किसी हिस्से से चिपक ही जाती है, उस पर कारें फिसलने लगती हैं तथा दुर्घटना हो जाती है।

बर्फीले मौसम में ट्रैफिक की समस्या तो अक्सर पैदा हो जाती है, हालाँकि चार सड़कें आने वालों की और चार सड़कें जाने वालों की हैं। इसके बावजूद कार से कार टकरा रही है। अगर कोई दुर्घटना हो जाए तो कहीं भी समय पर पहुँचना मुश्किल हो जाता है। ऐसे ट्रैफिक से जूझना उसके और उसके पति की दिनचर्या में शामिल है। मौसम कोई भी हो, उन्हें तो काम पर जाना ही होता है। एयरपोर्ट और उनके काम के लिए यही हाईवे पड़ता है।

उसे चिंता मेहमानों की है जो उसकी कार में बैठे हैं और उन्हें एयरपोर्ट पहुँचाना है। अगर वे समय पर नहीं पहुँचे तो उनकी अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट मिस हो जाएगी। मेहमान मुंबई के हैं। सेंट लुईस से न्यूयार्क जॉन एॅफ कैनेडी एयरपोर्ट जाएँगे और वहाँ से मुंबई की फ्लाइट पकड़ेंगे। एक फ्लाइट छूट गई तो अगली फ्लाइट अपने निर्धारित समय पर चली जाएगी, इनके लिए रुकेगी नहीं। सभी तनाव में हैं पर उत्साहित भी हैं! खराब मौसम के बावजूद फ्लाइट कैंसिल नहीं हुई।

उसके पति हार्दिक कार चला रहे हैं और वह उनके साथ पैसेंजर सीट पर बैठी है। कारों के हजूम को देखकर उसका दिल घबरा रहा है , वह बेचैन हो रही है। ऐसा पहले उसके साथ कभी नहीं हुआ; हालाँकि कई बार वह ट्रैफिक में फँस चुकी है। उसे मेहमानों को समय पर एयरपोर्ट पहुँचाना है। यह जिम्मेदारी उसकी है। उसने स्वयं यह दायित्व लिया है। वह पीछे मुड़कर सबको देखती है। सब सोच में डूबे हैं। वह ख़ुद भी सोच रही है, कहीं फ्लाइट न छूट जाए। वह जानती है अगर फ्लाइट छूट गई तो इस मौसम में पता नहीं किस दिन की फ्लाइट मिले और फिर अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को तीन घंटे पहले बुलाया जाता है। परिस्थितियों को नजरअंदाज कर वह उन्हें आश्वासन देती है, ‘घबराइए नहीं अभी ट्रैफिक ठीक हो जाएगा और हम समय पर पहुँच जाएँगे।’

‘बेलमिल’ जिस फार्मास्यूटिकल कंपनी में वह काम करती है, उसी का एक ऑफिस मुंबई में है।’ वह ‘बेलमिल’ कंपनी में प्रोजेक्ट लीडर है और मुंबई ऑफिस की टीम के साथ मिलकर एक प्रोजेक्ट पूरा कर रही है। वही टीम उसकी कार में बैठी है। पिछले चार दिनों से वे सब उसके साथ उसके घर पर थे और घर में बंद बोर हो गए थे। जब से वे आए थे, बर्फ की बरसात ने कहर ढाया हुआ था। एक तरह से बर्फ का तूफान आया हुआ था।

वह अपनी टीम की निराशा को समझ रही है। भारत से जब भी कोई विदेश आता है तो घूमना चाहता है और काम के बाद उसकी टीम तो पिछले चार दिनों से घर में बंद थी, हालाँकि उन्हें घुमाने की जिम्मेदारी उसने ली थी। वह भी क्या करती मौसम दगा दे गया ! अब वे सब उकता चुके हैं और जल्द ही घर लौटना चाहते हैं।

‘दीपाली लगता नहीं कि आज हम समय पर एयरपोर्ट पहुँच पाएँगे।’ हार्दिक ने चिंतित होते हुए कहा।

‘आप मौसम के समाचार लगाइए, शायद कुछ पता चल जाए।’ दीपाली के चेहरे पर भी चिंता की रेखाएँ उभर आईं।

‘नैविगेटर( वैश्विक स्थान निर्धारण प्रणाली) कितने समय में पहुँचने का बता रहा है।’ वह चिंतित-सी पूछती है।

‘एक घंटे की देरी बता रहा है।’ हार्दिक ने धीरे से कहा।

‘क्या?’ कार में बैठे सभी इकट्ठे बोले।

हार्दिक ने समाचार लगा दिए। सब बड़े गौर से समाचार सुनने लगे। समाचार वाचक ने जब हाईवे टू सेवेंटी पर डेढ़ घंटे की देरी की सूचना दी तो कार में बैठी टीम रुआँसी-सी हो गई। मनीष उस टीम का हेड है, बोला-‘मैडम, अब क्या होगा? हम तो खुश थे कि फ्लाइट कैंसिल नहीं हुई। अब कैसे पहुँचेंगे! अब तो पक्का फ्लाइट छूटेगी।’

मनीष की बात सुनकर हार्दिक और दीपाली दोनों ही उदास हो गए।

तभी अचानक हार्दिक बोला ‘दीपाली अभी जो एग्जिट आ रहा है, कार उस तरफ मोड़ ली जाए। वहाँ से निकलने वाली तीन सड़कों में से बाईं ओर की सड़क इस हाईवे के साथ-साथ चलती है और उस पर ट्रैफिक भी नहीं होता। इससे हम जल्दी एयरपोर्ट पहुँच सकते हैं।’

‘आप तो इस सड़क के बारे में जानते हैं फिर इसका जिक्र क्यों कर रहे हैं?’

‘दीपाली हमारे पास और कोई च्वॉइस नहीं है ! क्या तुम नहीं चाहती कि तुम्हारी टीम समय पर एयरपोर्ट पहुँच जाएँ!’

‘हार्दिक बचेंगे तो पहुँचेंगे।’ दीपाली ने धीरे से कहा।

‘कम ऑन दीपाली! कैसी बातें करती हो! सड़क जंगल से जरूर गुजरती है, पर जिस तरह लोग बातें करते हैं वैसा कुछ भी नहीं; अगर ऐसा होता तो, मेरी जान! यह अमेरिका है, सड़क कब की बंद कर दी गई होती।’ हार्दिक ने भी धीमे से कहा ताकि मेहमान उनकी बातचीत को सुन न सकें।

दीपाली ख़ामोश हो गई। हार्दिक अपनी कार को बाकी कारों से रास्ता बनाता हुआ हाईवे से बाहर जाने वाली सड़क पर ले गया और एग्जिट लेने वाली अन्य कारों की लाइन में अपनी कार उनके पीछे लगा कर बाहर जाने का इंतजार करने लगा।

‘मैडम जाने से पहले मैं आपको कुछ बताना चाहता हूँ।’ मनीष बोला- ’मैं जैनेट गोल्डस्मिथ नाम की लड़की को ढूँढ़ना चाहता था। किसी का पत्र उस तक पहुँचाना था। पर मौसम इतना आड़े आता रहा कि मैं आपको यह बात बता भी नहीं पाया। वह पत्र आपको दे कर जा रहा हूँ।’ मनीष बैग से पत्र निकालने लगा।

जैनेट गोल्डस्मिथ का नाम सुनते ही हार्दिक और दीपाली ने एक दूसरे को देखा। उन दोनों की नजरों में क्या था..... मनीष समझ नहीं पाया और वह अपनी ही धुन में बोलता गया....

‘मैडम दो साल पहले विजय मराठा सेंट लुईस यूनिवर्सिटी में पीएच.डी करने आया था और जैनेट उसकी दोस्त है। विजय का ही मैसेज उस तक पहुँचाना है।’

‘विजय को तुम कैसे जानते हो?

‘मैं और विजय बचपन के दोस्त हैं। हम दोनों मुंबई के

धारावी से हैं, जिसे स्लम एरिया कहा जाता है। मिसेज शाह, हम दोनों वहीं जन्मे और पले। बचपन से ही दोनों की दोस्ती हो गई। कहते हैं ना कुछ बातें कॉमन होती हैं जो लोगों को एक दूसरे के क़रीब ले आती हैं। हम दोनों को पढ़ने का बचपन से ही बहुत शौक़ था। बस यह पढ़ने- लिखने का शौक़ ही हम दोनों को क़रीब ले आया। मैडम, धारावी स्लम जरूर है पर वहाँ के भी बहुत से युवक एजुकेटिड हैं।’

‘मनीष मैं जानती हूँ।’ दीपाली ने प्यार से कहा।

‘विजय को एम.एससी के बाद सेंट लुईस यूनिवर्सिटी में पीएच.डी. करने के लिए स्कॉलरशिप मिल गई और वह यहाँ आ गया और मैं एम.एससी के बाद ‘बेलमिल’ फार्मास्यूटिकल कंपनी में नौकरी करने लगा।’ इतना कह कर मनीष चुप हो गया।

हार्दिक और दीपाली ने फिर एक दूसरे की ओर देखा.....भेदभरी नजरों से... जिसे कोई समझ नहीं पाया।

दीपाली कार में बैठे-बैठे कहीं और पहुँच गई.....

‘दीपाली यह है विजय मराठा, मेरा नया पीएच.डी. स्टूडेंट। मुंबई से आया है।’ हार्दिक ने दीपाली से विजय को मिलवाया था और ‘विजय यह है मेरी पत्नी दीपाली! यह भी मुंबई से है।’ लंबे, साँवले, कसे बदन वाले विजय मराठा ने झुक कर उसे नमस्कार किया। उसके घने घुँघराले काले बालों और चमकते साँवले रंग में बहुत आकर्षण था। वह उसे देखती रह गई थी, मुस्कराहट बिखेर कर उसने अपने देखने को छिपा लिया था।

विजय के घर में प्रवेश करते ही बाहर एक दम काली घटाएँ घिर आईं, जबकि मौसम विभाग ने ऐसी कोई सूचना नहीं दी थी। गहरे स्लेटी, थोड़े से सफेद बादल आकाश में घिरने लगे थे। गहरे स्लेटी और सफेद बादल पहले एक समूह में इकट्ठे हो कर हल्की-हल्की और फिर तेज गर्जन कर शोर मचाने लगे।

दीपाली को अजीब लगा था। प्रकृति का यह रूप वह पहली बार देख रही थी। विशेषकर सेंट लुईस शहर में, जहाँ

प्रकृति सफेद चादरें बिछाती है पर कभी घटाटोप अँधेरा नहीं करतीं। प्रकृति हमेशा सेंट लुईस शहर को चकमक सफेद और रोशन रखती है। पर उस दिन प्रकृति किस पर क्रोधित हो गई थी।

‘हार्दिक, नेचर को यह क्या हो गया है! किस पर इतना गुस्सा हो रही है?’

‘मैडम, यह क्रोधित नहीं मुझे देख कर रंग बदल रही है। सोच रही है, इसके रंग में रंग कर देखूँ!’ कह कर वह जोर से खिलखिलाकर हँस पड़ा था।

‘काफी सकारात्मक सोच के लगते हो।’ दीपाली ने मुस्कराते हुए कहा।

‘जी मैडम, अगर पॉजिटिव सोच का न होता तो धारावी जैसी जगह से निकल कर इस धरती पर कैसे आता!’

‘विजय मैंने तुझे समझाया था कि यहाँ सर और मैडम कहने का प्रचलन नहीं। निस्संकोच तुम हमारा पहला नाम ले सकते हो या डॉ. शाह या मिसेज शाह कह सकते हो ’ हार्दिक ने मुस्कुराते हुए कहा।

तभी उसने उन दोनों का हाथ पकड़ा और मुख्य द्वार को खोलकर बाहर बगीचे में ले गया। तब तक बादलों की गरज और बिजली की कड़क के साथ ही रिम झिम रिम झिम बरसात शुरू हो गई थी और वह ख़ुशी से आसमान की ओर देखता हुआ बोला-‘इस देश में आने पर मेरा स्वागत करने के लिए धन्यवाद।’

उसके साथ-साथ वे दोनों भी वर्षा में भीग गए।

‘विजय अंदर चलो, तुम अभी नए-नए इस देश में आए हो। तुम्हें मालूम नहीं कि इस बरसात में भीगना बीमारी को दावत देना है।’ हार्दिक ने बड़े नर्म लहजे में कहा और वे तीनों मुख्य द्वार के सामने आ खड़े हुए।

‘क्षमा चाहता हूँ मैडम भूल गया, कि यहाँ के घर लकड़ी के बने होते हैं और अब भीगे बदन अंदर कैसे जाएँगे! आई एम सो सॉरी!’ विजय ने बड़े अंदाज से कान पकड़ते हुए कहा।

दीपाली ने अपने दोनों हाथों से अपने बदन के गीले कपड़ों को ऊपर से नीचे तक निचोड़ा। कपड़े बदन पर और भी चिपक गए। पर टांगों से कुछ पानी निकल गया। तभी उसने दरवाजे पर रखे डोर मैट पर पाँव पौंछे और उन दोनों को वहीं रुकने के लिए इशारा किया। भाग कर अंदर गई और कुछ ही क्षणों बाद वह दो तौलिए उनके लिए ले लाई। उन दोनों ने कमीजें और पतलूनें उतार कर तौलिये बाँध लिए और स्नान करने भीतर चले गए।

दीपाली ने पहले लकड़ी के फर्श पर फैला पानी एक तौलिये से सोखा और फिर पोंछा  लगा कर नहाने और कपड़े बदलने चली गई।  

ऐसे गीले-सीले मौसम में पकौड़ों का आनंद आ जाएगा, बस सोचकर ही जल्दी से दीपाली ने कढ़ाई चढ़ा दी और पकौड़े तलनें लगी। हार्दिक और विजय फैमिली रूम में आ गए। पकौड़ों की ख़ुशबू सूँघते ही विजय गाने लगा-हाए हाए ये पकोड़े... दीपाली और हार्दिक हँसने लगे। विजय का जीवंत स्वभाव हार्दिक को बहुत पसंद आया।

अगर मैं आपको भैया- भाभी कहूँ तो आपको एतराज तो नहीं होगा। विजय ने बड़े सम्मान से पूछा।

‘यूनिवर्सिटी में डॉक्टर शाह। घर में कुछ भी कह सकते हो।’ हार्दिक ने मुस्कुराते हुए कहा। चाय पीने के बाद वह उठ खड़ा हुआ।

‘अच्छा भैया अब मैं चलता हूँ फिर किसी दिन आऊँगा।’ विजय ने मुस्कुराते हुए उनसे विदा ली थी।

‘रुक जाते, डिनर हमारे साथ ले लेते।’ हार्दिक ने बहुत स्नेह से कहा।

‘नहीं भैया फिर किसी दिन। अच्छा भाभी चलता हूँ।’ कह कर विजय दोनों को नमस्ते करके दरवाजे की ओर बढ़ गया। हार्दिक उसे बस स्टॉप तक छोड़ने उसके साथ चला गया।

विजय को छोड़कर हार्दिक जब घर आया तो दीपाली ने हँसते हुए कहा-‘ देखना बहुत जल्दी किसी अमेरिकन लड़की ने इसकी जिंदादिली देखकर इससे दोस्ती कर लेनी है।’ इसे पहले से सचेत कर दीजिएगा।

हार्दिक गम्भीर हो गया।’ऑलरेडी किसी से दोस्ती हो चुकी है।’

‘क्या?’ दीपाली चैंक गई-‘कौन है वह लड़की!’

‘सेंट लुईस के मेयर रॉबर्ट गोल्डस्मिथ की बेटी जैनेट गोल्डस्मिथ।’

‘अभी तो विजय आया है। दोस्ती कब हो गई? कहाँ मिले! इसे पता है मेयर नस्लवादी है। वह कभी बर्दाश्त नहीं करेगा कि उसकी बेटी एक भारतीय से दोस्ती रखे।’ दीपाली भावनाओं में बहती बोलती गई- ‘प्लीज विजय को समझाएँ, मेयर कंजर्वेटिव, सनकी और रूढ़िवादी पॉलिटिशियन है।’

हार्दिक ने कोई जवाब नहीं दिया। वह गंभीर और चुप था।

‘क्या विजय ने आपको बताया कि वह जैनेट से कहाँ मिला, कैसे मिला ? मुझे हैरानी हो रही है, उसे आए अभी एक सप्ताह भी नहीं हुआ और एक अमेरिकन लड़की से दोस्ती कर ली। इसका मतलब लड़कियों के मामले में बहुत तेज है। दिखने में तो ऐसा नहीं लगता। मुझे तो बहुत सरल-सा लड़का लगा।’ दीपाली बिना रुके लगातार बोल रही थी।

‘दीपाली शांत हो जाओ। विजय और जैनेट की दोस्ती पहले की है। दरअसल जैनेट ने ही विजय को यहाँ पीएच.डी करने के लिए एन्करेज किया है।’

‘मैं कुछ समझी नहीं।’

‘जैनेट यूनिवर्सटी के एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत मुंबई विश्वविद्यालय में दो साल के लिए गई थी। वहीं जैनेट की दोस्ती विजय से हो गई। विजय को स्कॉलशिप अपनी काबलियत पर मिली है। पर अब वह जैनेट के साथ उसके टाउन हाउस में रह रहा है और वे दोनों जल्दी ही मेयर को बताने वाले हैं।’

‘क्या बताने वाले हैं कि वे दोनों साथ रहते हैं। हार्दिक, वे क्या सोचते हैं कि मेयर को पता नहीं।’ दीपाली ने चिढ़ कर कहा था।

‘अभी तो मेयर को यही कहा गया है कि विजय ने भारत में जैनेट की बहुत मदद की थी , इसलिए जैनेट उसकी मदद कर रही है। पर वे जल्दी ही उसे यह बताना चाहते हैं कि वे दोनों प्यार करते हैं और शादी करना चाहते हैं। अब तुम ही बताओ मैं उसे क्या सचेत करता।’ हार्दिक की आवाज में निराशा उभर आई थी।

‘ओह गॉड ! बेटी तो अपने बाप को जानती है,  फिर भी वह यह कदम उठा रही है!’ ‘दीपाली, तुम फालतू में भावुक हो रही हो...’ हार्दिक ने दीपाली की ओर देखते हुए कहा-‘जैनेट को तो अपने डैड बहुत ही प्रगतिशील लगते हैं। उसे एक्सचेंज प्रोग्राम में भारत भेजा दो साल के लिए। वे इसी भ्रम में है कि उसके डैड इस शादी को मान जाएँगे।’

‘पॉलिटिशियन हैं, हो सकता है अपनी इमेज बचाने के लिए मान जाएँ! हम फिजूल में परेशान हो रहे हैं।’ दीपाली ने स्वयं को संयत करते हुए कहा।

‘अश्वेतों और दूसरे इमिग्रेंट्स के बारे में उनकी जो राय हैं, उसको देखकर तो नहीं लगता कि मेयर इस शादी के लिए राजी हो जाएँगे। ख़ैर समय ही इसका उत्तर देगा। तुमने सही कहा, हम क्यों परेशान हो रहे हैं?’ हार्दिक हल्का सा मुस्कुरा दिया था।

हार्दिक कार को हाईवे से बाहर जाने वाली सड़क से मोड़ कर बाईं ओर वाली सड़क पर ले गया। इस एग्जिट पर तीन सड़कें हैं। सीधे जाने वाली और दाईं ओर जाने वाली सड़क, शहर के दक्षिण और पश्चिम की तरफ जाती हैं और बाईं ओर जाने वाली सड़क पूर्व की ओर जाती हुई एयरपोर्ट की मुख्य सड़क से जाकर मिल जाती है।

बाईं ओर वाली सड़क शहर के बाहरी हिस्से की तरफ मुड़ गई है। दो एक मील ड्राईव करने के बाद हार्दिक ने कार की गति तेज कर दी। सड़क पर ट्रैफिक बहुत कम हो गया है। सड़क शहर को छोड़कर जंगल की तरफ जा रही है। सरकार ने पन्द्रह मील के इस जंगल को जंगली जानवरों के लिए सुरक्षित रखा है। सड़क जंगल के बीचों-बीच से निकल कर एयरपोर्ट पर समाप्त हो जाती है। काफी घुमावदार भी है। इस सड़क पर बहुत कम आवा-जाही है। पता नहीं चलता कब कोई जानवर सामने आ जाए या कार से टकरा जाए। आपात्कालीन स्थिति में ही लोग इस सड़क पर से निकलते हैं। दिन में तो लोग फिर भी कई बार जोखिम उठा लेते हैं पर रात को यहाँ से निकलना सच में खतरे से खाली नहीं। भयानक दुर्घटनाएँ हुई हैं। उन दुर्घटनाओं के साथ भारतीय समुदाय में कई कहानियों ने जन्म लिया हुआ है और अब वे अफसाने बन चुकी हैं।

कार की गति बढ़ने के साथ-साथ हार्दिक के दिल की

धड़कन भी तेज हो रही है। बस वह सुरक्षित इस सड़क को पार कर एयरपोर्ट पहुँच जाना चाहता है। उसे यह देख कर तसल्ली हुई कि उससे थोड़ी दूरी पर कुछ और कारें भी जा रही हैं, शायद उन्होंने भी एयरपोर्ट पर जल्दी पहुँचने के लिए यह सड़क चुनी है। उसने अपनी भावनाओं को नियंत्रण में करने के लिए दीपाली की ओर देखा। उसे वह किसी और ही दुनिया में खोई हुई लगी।

उसने अपना ध्यान बाँटने और कार में छायी गहरी चुप्पी को तोड़ते हुए मनीष से पूछा-

‘क्या मेरे बारे में विजय ने तुम्हें कभी नहीं बताया ?’ हार्दिक के इस प्रश्न पर दीपाली वर्तमान में लौट आई।

‘सर, आप विजय को जानते हैं?’ मनीष ने जिज्ञासा से पूछा।

‘मैं विजय का गाइड था, जब वह पीएच.डी करने यहाँ आया। उस समय मैं सेंट लुईस यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर था।’ हार्दिक ने शान्त आवाज में कहा।

‘सर, विजय पीएच.डी बीच में छोड़कर क्यों लौट गया? क्या वह यहाँ ड्रग का धंधा करता था? क्या सच में उसका कोई गैंग था?’ मनीष की आवाज दर्द से भीग गई।

‘ड्रग और विजय! कैसी बातें करते हो मनीष! तुम तो उसे बचपन से जानते हो, तुम्हीं बताओ, क्या वह ऐसा कर सकता है?’ हार्दिक की आवाज पहले की भाँति शान्त थी।

‘विजय का कसूर बस इतना है कि उसने एक दकियानूसी, रंगभेदी, पॉलिटिशियन की बेटी से प्यार किया।’ दीपाली रोष से बोली, ‘जैनेट के डैडी ने उसे चेतावनी दी थी, कि अगर वह विजय का साथ नहीं छोड़ेगी तो इसके घातक परिणाम होंगे और उनकी जिम्मेदार वह होगी।’ कह कर दीपाली चुप हो गई। 

‘फिर क्या हुआ?’ कार में बैठे मनीष, अशोक और पॉल के मुँह से एक साथ निकला।

हार्दिक की आँखें सड़क पर आगे जा रही कारों पर टिकी हैं और कान कार के अंदर की बातचीत सुन रहे हैं। 

‘मनीष तुम तो जैनेट को भी अच्छी तरह से जानते होंगे! दोनों की दोस्ती मुंबई यूनिवर्सिटी में ही हुई थी, क्या यह सही है।’ दीपाली ने पूछा।

‘जी मिसेज शाह। विजय जैनेट को बहुत चाहने लगा था, उसी की खातिर इस देश में आया। वरना वह तो विदेश जाना ही नहीं चाहता था।’ मनीष की आवाज में दर्द अभी भी था।

‘जैनेट अपने पिता की तरह जिद्दी थी और विजय भी हमारे संकेत नहीं समझा। सच कहूँ, वे दोनों एक दूसरे से बेइंतिहा प्यार करते थे। हम भी चाहने लगे थे कि उनका प्यार परवान चढ़े। पर एक गलती उन्होंने कर दी। मेयर रॉबर्ट गोल्डस्मिथ की

धमकियों को नजरअंदाज कर दिया। जैनेट इसी गलतफहमी में रही कि उसके पिता उन्हें बस डरा रहे हैं, वह उनकी इकलौती संतान है। उसके डैडी कुछ करेंगे नहीं। वह अपने पिता की मानसिकता को समझ ही नहीं पाई।’ दीपाली की आवाज भी उदास हो गई।

‘जब विजय को वापिस भेजा गया तो जैनेट ने कुछ नहीं किया।’ अब पॉल ने पूछा। टीम में भी आगे जानने की जिज्ञासा पैदा हो गई।

‘जैनेट को मेयर ने खबर नहीं होने दी। उसे जब पता चला देर हो चुकी थी।’ दीपाली ने उसी उदासी में कहा।

‘मिसेज शाह , हम समझे नहीं, जैनेट और विजय इकट्ठे रहते थे। तो जैनेट को पता कैसे नहीं चला?’ मनीष ने पूछा।

‘इमिग्रेशन ऑफिसर ने पुलिस के साथ मिलकर विजय को लैब से पकड़ा। जो फाइल विजय के खिलाफ यूनिवर्सिटी में पेश की गई, वह थी इमिग्रेशन के कागजों में गलत जानकारी और फैक्ट्स के साथ छेड़छाड़ यानी तथ्यों का आभाव। झूठे प्रमाण पत्र लगाने का जुर्म। इमिग्रेशन के कानूनों का उल्लंघन। धोखे और फ्रॉड का बहुत मजबूत केस तैयार किया गया था।’ उदासी ने दीपाली की आवाज भारी कर दी।

‘हे भगवान.... विजय जैसा ईमानदार और आदर्शवादी लड़का ऐसा कर ही नहीं सकता।’ मनीष ने बड़े विश्वास के साथ कहा।

‘मनीष, विजय इतना सरल, बुद्धिमान और मिलनसार था कि यूनिवर्सिटी के इमिग्रेशन ऑफिस के वकील तक उसे सच्चा मानते थे। पर उसके खिलाफ केस इतना मजबूत बनाया गया कि कोई कुछ नहीं कर पाया और सबके सामने वे उसे ले गए। उसका फोन छीन लिया, और तीन घंटे के अंदर उसे जहाज में बिठा दिया गया।’

‘उसका सामान?’ दूसरे सदस्य अशोक ने पूछा।

‘वह सब इमीग्रेशन वाले बाँध कर लाए थे, तभी तो मुंबई एयरपोर्ट पर उतरते ही वह ड्रग डीलर, ड्रग माफिया का मेंबर और गैंगस्टर पता नहीं क्या-क्या बना दिया गया। यहाँ से फोन किया गया था वहाँ के इमिग्रेशन में। गंदी राजनीति जीत गई और सच्चा प्यार हार गया। पॉलिटिशियन किसी भी देश के हों, सब एक जैसे हैं।’ दीपाली की आवाज में रुलाई आ गई।       

‘मुंबई एयरपोर्ट पर पहुँचते ही विजय के साथ जो हुआ, उसका हमें पता चल गया था। यूनिवर्सिटी का एक प्रोफेसर उसी जहाज में अपने परिवार के साथ मुंबई गया था और ज्योंही वह एयरपोर्ट पर उतरा, उसने सब कुछ देखा। यहाँ आकर उसने यूनिवर्सिटी को इन्फॉर्म कर दिया। हम समझ गए थे.....अब वह कभी लौटकर नहीं आ सकता।‘ दीपाली की आवाज में रुलाई आ गई -‘एक भोला, नादान और अच्छा इंसान घटिया राजनीति, नस्लवाद और रंगभेद की बलि चढ़ गया।’ दीपाली की रुलाई से भरी आवाज में अब हताशा उभर आई।

‘मिसेज शाह जैनेट को इसका पता कब चला?’

‘मनीष, जैनेट के साथ उसके परिवार ने बहुत बड़ा धोखा किया।’ दीपाली गले में आए भारीपन को गले में ही गटक गई ....

‘विजय की गिरफ्तारी से एक रात पहले उसकी माँ मरियम आई सी यू में दिल के दर्द को लेकर भर्ती हो गई। विजय को पकड़कर जहाज में बैठाने तक वह हस्पताल में थी। जैनेट का फोन बंद करके, जिस जगह वह बैठी थी, वहीं कुशन के पीछे छुपा दिया गया। जैनेट माँ के दुःख में विचलित फोन को भूली रही।’ दीपाली साँस लेने के लिए रुकी। उसने गहरी लम्बी साँस ली और गले में अटके रोने को कम किया। वर्षों से भीतर दबा लावा बाहर आने को बेताब हो रहा है। हार्दिक और दीपाली ने विजय को लेकर कभी किसी से कोई बात नहीं की थी और अब आँखों, नाक और गले से लुढ़क-लुढ़क कर कितना कुछ निकल रहा है। उसने टिशू पेपर से उन्हें रोका।

पता नहीं क्यों हार्दिक भीतर से डरा हुआ है। चेहरा सामान्य नहीं लग रहा। भारतीय समुदाय में फैले अफसानों की वजह से, हालाँकि वह उन्हें सच नहीं मानता या जंगल से गुजरती इस सड़क पर पहली बार ड्राइव करने से। जंगल के भीतर से घूम-घूम कर जा रही सड़क पर कार को सँभालते हुए, वह बड़ी सचेतता से ड्राइव कर रहा है। 

दीपाली बताने लगी - ‘हार्दिक जैनेट को फोन करते रहे। उसका फोन बंद था। पर अचानक उसे अपने फोन का ध्यान आया तो उसने उसे ढूँढ़ा और विजय को फोन मिलाया। उसका फोन बंद पाकर उसने हार्दिक को कॉल किया तो हार्दिक ने उसे सब कुछ बता दिया। दो साल में ही उसने हिंदी अच्छी सिख ली थी। वह हस्पताल में ही चिल्लाने लगी... ‘माँ की बीमारी के बहाने उसे यहाँ रोकना एक षड्यंत्र है डॉ. शाह।’ वह रो पड़ी। फोन ऑन था, वह अपने डैडी पर चीख उठी थी-‘यू लॉयर, यू चीटर, आई विल मेक शोयर दैट दिस टाइम यू वोन्ट विन द इलैक्शन।’ कह कर वह पार्किंग लॉट की ओर भागी। कार में बैठ कर उसने हार्दिक को कहा कि वह एयरपोर्ट जा रही है और फोन बंद कर दिया।

‘क्या वह समय पर एयरपोर्ट पहुँच नहीं पाई?

‘मनीष मैं उस दिन को कभी भूल नहीं पाती। उस दिन भी मौसम बहुत ख़राब था। हाईवे पर जरूर ट्रैफिक रुका हुआ होगा, जो उसने एयरपोर्ट जाने के लिए यही छोटा रास्ता लिया, पर......  दीपाली की बात मुँह में ही रह गई। तभी जोर से तड़ाक-फड़ाक और घर्र-घर्र की आवाज के साथ कार रुक गई और आगे की कारें भी इसी शोर से रुक गईं .... आगे की कारों से चीख-पुकार शुरू हो गई .....

हार्दिक के चेहरे पर पसीना आ गया और वह उद्विग्न होकर बोला - ‘दीपाली, कारों के आगे देखो कैसा धुआँ उठ रहा है....! तभी सब कारें रुक गई हैं। सब घबरा गए.... घबराहट ने अशांत कर दिया....पॉल घबराहट में बार-बार एक ही बात कहने लगा-’ मैडम अब क्या होगा! ...मैडम अब क्या होगा! ....मनीष से उसे गुस्से से कहा-‘शटअप पॉल...हालात को समझो।’ वह खुद भी बेचैन हो रहा है....  

अकस्मात् बाहर बेहद तेज रफ्तार से हवा चलने लगी.... सड़क के आस-पास घास पर फैली सफेद चादरें चिन्दी-चिन्दी होकर हवा में लहराने लग गईं। सड़क के इर्द-गिर्द बर्फ से लदीं, पत्तों वहीन वृक्षों की टहनियाँ हवा के साथ डोलने लगीं। टहनियों पर से छोटे -बड़े आकार में रुई सी बर्फ ऊपर-नीचे हो कर हवा में उड़ने लगी। हवा में टहनियों का झूलना एक डरावना मंजर पैदा कर रहा है। वातावरण में जंगल से जानवरों की तरह-तरह की आवाजें गूँजनी शुरू हो गईं। चारों ओर अजीब-सा शोर मच गया। इस शोर ने सभी के बदन में सिहरन पैदा करके डरा दिया। बस चीखें नहीं निकलीं। आगे की कारों से तो खूब चीख-पुकार हो रही है। कार में सभी के दिल की घड़कनें और साँसें बेकाबू हो रही हैं....

धुएँ के अंधड़ ने बर्फ के बवंडर का रूप धार लिया। प्रचंड वेग से हवा का एक बबूला ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर घूमने लगा और चारों ओर उड़ती रुई के टुकड़ों सी बर्फ उसमें सिमटने लगी। गोल-गोल घूमता बबूला बर्फ का गोला दिखने लगा.... वह गोला गति में इतना तेज घूमने लगा कि आस-पास की सभी चीजें उड़ कर उसमें समाने लगीं..... कारों ने हिलना शुरू कर दिया.... 

कार में बैठे सभी जनों ने अपनी सीटों को कस कर पकड़ लिया। कार में उन्हें ऑक्सीजन की कमी महसूस होने लगी, पर शरीर हिल-डुल नहीं रहे। स्तब्ध और परेशान बैठे आँखें देख रही हैं और मुँह साँस लेने के लिए खुले हुए हैं।

मनीष को साँस लेने में दिक्कत हो रही है। उसने अपने पास वाली खिड़की खोलनी शुरू ही की, तभी दीपाली में पता नहीं कैसे जोश आया और वह जोर से बोली, ‘मनीष खिड़की मत खोलना, हवा इतनी तेज है, कार को उड़ा ले जाएगी।’ मनीष ने खिड़की आधी ही खोली और उसका हाथ रुक गया पर घनघोर वेग में हवा का एक झोंका तेजी से भीतर आया, जिसने कार को जोर से हिला दिया, लगा कार एक तरफ लुढ़क जाएगी। मनीष खिड़की के पास बैठा है, हवा उसके बदन को अपनी तरफ खींचने लगी। वह उसकी तरफ झुका भी, साथ बैठे अशोक ने उसकी बाजू पकड़ ली। सीट बेल्ट ने उसे कुर्सी से परे जाने नहीं दिया। पर उसके हाथ में थामा विजय का पत्र, जो वह जैनेट तक पहुँचाने के लिए दीपाली को देने वाला था, हवा के वेग के साथ उड़ कर बाहर चला गया। कार में भय और ठंड से सब थरथराने लगे। ठंडी हवा बदन को चीर गई। इसके बावजूद पॉल ने फुर्ती दिखाई और फटाफट खिड़की बंद कर दी।

यह सब क्षणों में हुआ। भीतर हवा आनी बंद होते ही कार थम गई। सबकी साँसें और शरीर भी काबू में आए। मनीष का बदन इस ठंड में भी पसीने से भीग गया। बड़ी मुश्किल से उसकी कँपकँपी बंद हुई। वह जोर-जोर से साँसें लेकर स्वयं को सामान्य करने की कोशिश करने लगा। हार्दिक और दीपाली ने एक दूसरे को थाम लिया। कार में आए हवा के झोंके ने सबको विचलित कर दिया। गर्म कपड़ों की तहों में भी बदन ठण्डे हो गए। ऊर्जा रहित बदन हो गए, जैसे हवा का झोंका अपने साथ ही शरीरों की ऊर्जा भी ले गया।

‘हाथों को शरीर पर फेर कर ठण्ड को कम करें। एनर्जी आ आएगी।’ हार्दिक ने कहा।

पलक झपकते ही हवा उस पत्र को लेकर बर्फ के गोल-गोल घूमते अब गुब्बारे के आकार में बदल गए गोले में सिमट गई।

उनहुँ...  उनहुँ...और कई स्वरों की तीखी ध्वनियाँ निकालता हुआ वह गोला पल में आकाश की ओर उड़ गया.... वातावरण में वे ध्वनियाँ क्रंदन सी सुनाई दीं। एक तेज रोशनी की लकीर उस गोले से निकली और वह अंतरिक्ष में खो गई। चारों ओर रोशनी फैल कर गायब हो गई। कार में बैठे मेहमान इन ध्वनियों से सहम गए और उनके दिमाग पता नहीं किन-किन अँधेरी गुफाओं की यात्रा करने लगे। जिसकी जितनी सोच, समझ और विवेक था, उसी स्तर पर इस घटना के स्वरूप के बीज पड़ गए।

बाहर सब कुछ शांत हो गया। जानवरों की आवाजें आनी बंद हो गईं। हर तरफ देखकर ऐसा लगा रहा है, जैसे बवंडर आया था, एक बहुत बड़ा टॉरनेडो, जो सब कुछ तहस-नहस कर, चला गया। शोर-शराबा, चीख -पुकार सब समाप्त।

अगली कारें चल पड़ीं। हार्दिक ने भी अपनी कार आगे बढ़ा दी।

‘लगता है जैनेट इस दुनिया में नहीं है।’ मनीष ने बड़ी

धीमी आवाज में कहा।

‘कैसे जाना!’ सत्यपॉल, जिसे पॉल कहते हैं, ने पूछा।

मनीष ने कोई उत्तर नहीं दिया। सिर झुका कर बैठा रहा।

दीपाली ने अपना गला साफ करते हुए कहा ‘मैं बता ही रही थी, जब यह सब हो गया।’

‘पर कैसे ?’ पॉल ने ही पूछा। मनीष खामोश बैठा है।

‘एयरपोर्ट जाते समय इसी रास्ते पर उसका एक्सीडेंट हो गया था। कहा यह गया कि वह कार तेज चला रही थी और उसकी कार के आगे कोई जानवर भागता हुआ आ गया। स्पीड तेज थी और वह कार को सँभाल नहीं पाई, कार वृक्ष से टकरा गई। पर हम जानते हैं, उसके डैड ने उसे मरवाया दिया। जिंदा रहती तो वह उनके लिए खतरा बन जाती।’ 

‘विजय जैनेट की मौत के बारे में जानकर सदमे से टूट जाएगा?’ हार्दिक ने भारी मन से कहा।

‘डॉ. शाह, पुलिस के टॉर्चर से विजय तो पहले ही टूट गया था। अब इस सदमे को सहने से पहले ही वह आजाद हो चुका है।’ मनीष का गला भर गया।

‘क्या ?’ सबके मुँह से एक साथ निकला।

‘पुलिस के टॉर्चर ने उसका मानसिक संतुलन बिगाड़ दिया था। उसका विश्वास डगमगा गया था। मैंने दो बेहतरीन वकील उसके मुकदमें की पैरवी के लिए भेजे, पर उसने उनसे बात तक नहीं की।’ अब उसकी आवाज थोड़ी ऊँची हुई-‘वे वकील मैंने भेजे थे और मैं उस कंपनी में काम करता हूँ, जिसका हेड ऑफिस सेंट लुईस में है। हरेक पर वह शक करने लगा था। मैं जब भी मिलने जाता, वह मिलने से इंकार कर देता। बस अपने छोटे भाई पर विश्वास करता था। उसी के द्वारा हम  कुछ मित्र मिलकर अच्छे वकीलों का इंतजाम कर रहे थे।’

‘अब समझ में आया उसने हमसे नाता क्यों तोड़ लिया? हालाँकि वह जानता था कि मेरे भाई और पिता जी मुंबई के नामी वकील हैं, वे सब उसकी मदद जरूर करते। हमने तो उसके घर पर कई पत्र लिखे। विनती की घरवालों से कि ये पत्र उस तक पहुँचा दें। पर कोई जवाब नहीं आया।’ दीपाली की आवाज बता रही है कि वह बेहद दुखी है।

‘विजय ने इस दुनिया को कब छोड़ा?’ दीपाली ने तड़प कर पूछा।

‘किसी को पता नहीं, कब? कैसे गया वह इस दुनिया से? कोई नहीं जानता? कहा यह गया कि उसने निराशा और अवसाद में आत्महत्या की।’ मनीष से आगे बोला नहीं गया।

‘परिवार ने ऐसे कैसे लाश ले ली!’ दीपाली की आवाज का दर्द और बढ़ गया।

‘मिसेज शाह, परिवार के सदस्य भी क्या करते? पुलिस टॉर्चर तो वे पहले ही सह रहे थे। चुपचाप लाश ली और दाह संस्कार कर दिया।’ यह बताते हुए मनीष की आवाज टूट गई।

‘तुम्हें यह पत्र कैसे मिला ?’

‘यहाँ आने के पहले। एयरपोर्ट के बाहर। विजय का छोटा भाई टीटू दौड़ता-भागता, हाँफता हुआ पहुँचा था मुझे यह पत्र देने के लिए। मेरे यहाँ आने के थोड़ी देर पहले ही उसे किसी कैदी ने यह पत्र भिजवाया था। साथ ही कहा था विजय की अंतिम इच्छा थी यह पत्र जैनेट तक पहुँच जाए। एयरपोर्ट के भीतर जाने तक वह मुझे कहता रहा.... यह पत्र उस तक पहुँचा देना....यह पत्र उस तक पहुँचा देना। मुझे खुशी है पत्र जैनेट तक पहुँच गया।’

मनीष के चुप होते ही उदास-सी खामोशी कार में छा गई।

सड़क एयरपोर्ट की मुख्य सड़क से जा मिली। हार्दिक ने कार एयरपोर्ट के टर्मिनल दो की ओर मोड़ दी, जहाँ अमेरिकन एयरलाइन का प्रस्थान स्थल है। कार एक कोने में करते हुए उसने लम्बी साँस ली और कहा-‘बावजूद सब अड़चनों के आपको दो घंटे पहले एयरपोर्ट पहुँचा दिया।’ कार की उदास खामोशी कार के दरवाजे खुलने के साथ ही बाहर  हो गई।

एयरपोर्ट तक पहुँचते-पहुँचते सभी के तन और मन बोझिल हो गए थे। समय की टिक-टिक जल्दी-जल्दी विदा लेने की दस्तक देने लगी.... अपना-अपना सामान लेकर, फीकी-सी मुस्कान चेहरों पर बिखरते हुए दीपाली और हार्दिक से हाथ मिला कर वे तीनों अमेरिकन एयरलाइन के खुलते-बंद होते दरवाजों से भीतर चले गए।

हार्दिक और दीपाली कुछ क्षण उन्हें जाते देखते रहे फिर हाईवे लेने की बजाय कार उसी सड़क पर मोड़ दी, जहाँ से वे आए थे......

‘‘हार्दिक, यह सड़क अब किसी कहानी को जन्म नहीं देगी।’’ कहकर दीपाली सीट पर अधलेटी हो गई। घुमावदार सड़क, जिसके दोनों तरफ ऊँचे-ऊँचे वृक्षों की टहनियों ने  छतरियाँ बना कर एक मनोरम दृश्य पैदा किया हुआ है, दीपाली उसका आनंद लेते हुए सीट पर पसर गई। कार इन छतरियों के बीच सड़क पर मध्यम गति से अपने गंतव्य की ओर बढ़ रही है......